सिंगर न होती तो अभी तक म्यूजिक सीख रही होती: प्रीति बाधवा

सिंगर न होती तो अभी तक म्यूजिक सीख रही होती: प्रीति बाधवा

आजा कल पंजाबी गीत काला डोरियां यूट्यूब पर छाया हुआ है. इसी सिलसिले में काला डोरियां की कलाकार प्रीति बाधवा से खास बातचीत हुई.

काला डोरियां का क्या कांस्पेट है?

काला डोरियां पंजाबी कल्चर के साथ जुड़ा हुआ गीत है. कई साल पहले ओरिजनल जो गाना आया था जो हम बचपन से सुनते हुए आ रहे हैं. जो इसी की पंचलाइन थी. इसी का काला डोरियां हमने उठाया हमने जो काला डोरियां रिपीट किया. ये गाना फ्रेंडशिप बैंड को रिपीट किया है.

काला डोरियां की शुटिंग कितने दिनों में पूरी हुई?

शुटिंग में हमें ज्यादा समय नही लगा था, क्योंकि इसकी टीम बहुत ही प्रोफेशनल टीम है, उन्होंने पहले से ही सब कुछ प्लान कर लिया था. तो शुटिंग में कोई दिक्कत नही हुई.

आपको कब लगा की सिंगर ही बनना है?

मैं बचपन से ही गा रही हूँ, जब मैं बहुत छोटी थी तब से ही गा रही हूँ. जितने भी गाना मुझे फेवरेट लगते थे. मैं गुनगुनाया करती थी. फिर मां ने म्युजिक की टीचर रख लिया.

अपने कैरियर को आप किस तरह से देखती हैं?

मुझे लगता कि मेरा कैरियर सही दिशा की ओर अग्रसर है. इस की मुख्य वजह यह है कि मैं बहुत ही चुनिंदा काम कर रही हूं. श्रोताओं को जिस तरह के गाने पसंद आ रहे हैं. वही गाती हूँ.

आप गानों को किस तरह से लेती है?

मुझे और दूसरे गायकों में बहुत बड़ा फर्क है. मैं सिर्फ अपने काम पर ध्यान देती हूं और जिस तरह का गाना मिलता है उस तरह से गा लेती हूँ.

गानों का चयन किस आधार पर करती हैं?

हकीकत यही है कि अभी तक मैं उस मुकाम पर नहीं पहुंची जहां मैं खुद गानों का चयन कर सकूं.

आप किस गायक की फैन हैं?

सच बोलूं तो मैं हर सिंगर की फैन हूं. हर तरह का गाना सुनना अच्छा लगता है. अंग्रेजी गाना सुनना भी मुझे बहुत पसंद है. सब तरह का गाना पसंद करती हूँ.  म्यूजिक वहीं हैं जो दिल को छू जाये.

आपकी जन्मभूमि कहां है?

मै दिल्ली में पैदा हुई हूँ, दिल्ली से ही मैंने पढ़ाई पूरी की है.

बचपन की कुछ यादें जो अभी भी आपके जेहन में है?

इतना मुझे याद है जो भी प्रोग्राम स्कूल के अंदर होते थे. उसमें हम स्टेज पर ही होते थे, कभी आंडिन्स के बीच में नहीं बैठे. चाहे वो ड्रामा हो डांस हो या संगीत हो. मैं सब में भाग लिया करती थीं.

इंडस्ट्री में आने का सपना देखने वालों को कोई खास संदेश?

बस आप अपना काम पूरी ईमानदारी से करिए. इंडस्ट्री में ही नहीं जिस भी फील्ड में आप हैं उसमें अगर आप पूरी मेहनत और लगन से काम करेंगे तो सफलता आपको मिलेगी.

अगर आप सिंगर न होती तो क्या होती?

इसका जबाव देना मेरे लिए कठिन है फिर भी बता देती हूँ अगर सिंगर न होती तो अभी म्यूजिक सीख रही होती.

Facebook Comments

You may also like

Bharat Goel-Nikhita Gandhi excited about their indie release, Kamli*

  Composer Bharat Goel and singer Nikhita Gandhi