घर पर ही तैयार करें प्राकृतिक पेंट

घर पर ही तैयार करें प्राकृतिक पेंट

प्राकृतिक व वातानुकूलित घर बनाने के लिए वैदिक प्लास्टर की बहुत बड़ी भूमिका है। इसे खरीदकर आप अपने लिए घर का निर्माण करा सकते हैं। लेकिन वैदिक प्लास्टर को बाजार से खरीदना पड़ता है। हालाँकि इसे घर में भी बनाया जा सकता है। लेकिन इसमें इस्तेमाल होने वाली वस्तुते जुटाना थोड़ा मुश्किल है साथ ही इसे बनाने की प्रक्रिया भी थोड़ी जटिल है। वैदिक प्लास्टर के समान ही वैदिक मास्टर भी है। ये भी घर को वातानुकूलित और पॉलुशन फ्री रखता है। इसमें माइक्रो ऑर्गनिज़मस भी वैदिक प्लास्टर के सामान ही मौजूद होते हैं। जिस पर नंगे पाँव चलने से मनुष्य को स्वस्थ्य लाभ मिलता है। लेकिन वैदिक मास्टर मज़बूती में, वैदिक प्लास्टर के मुकाबले थोड़ा कम है। ज्यादा नहीं बस थोड़ा सा, लेकिन वैदिक मास्टर को बनाना बहुत आसान है।

सामग्री : इसे बनाने के लिए चार चीज़ों की आवश्यकता होती है। देसी गाय का ताज़ा गोबर, तालाब की चिकनी मिट्टी, चूना और पानी।

वैदिक मास्टर बनाने की विधि :

मिट्टी और गोबर की बराबर मात्रा लें यानि अगर एक तसला मिट्टी का लिया है तो एक तसला गोबर लें और इसमें थोड़ा-थोड़ा करके पानी मिलते हुए आटे की तरह गूथ लें। यदि बीच में कोई कंकड़ पत्थर आए तो उसे निकाल दें। अब इस मिश्रण को पांच दिन के लिए ढक कर रख दें। प्रत्येक दिन इस मिश्रण को थोड़ी देर गुथें अगर घोल गाधा लगे तो थोड़ा पानी मिलाकर गूथें और वापस ढक कर रखें। पांच दिनों में इसमें एक रिएक्शन होगा जो इसके लिए बहुत ज़रूरी है। पांच दिन बाद इस तैयार मिश्रण में एक तसला चूना डालकर अच्छी तरह से मिलाएं और लीजिये आपका वैदिक मास्टर बनकर तैयार है। यदि आपके पास तालाब की मिट्टी नहीं है तो आपको इसमें गोबर की मात्रा बढ़ानी पड़ेगी और इसमें जिप्सम भी मिलाना पड़ेगा।

उपयोग : जो वैदिक मास्टर आपने तैयार किया है, उससे दीवार पर एक इंच मोटी परत लगाते हुए पूरी दीवार पर एकसार फैलाएं। एक वर्ग फुट क्षेत्र के लिए एक किलोग्राम वैदिक मास्टर की आवश्यकता होगी। यदि दरारें ज़्यादा हैं तो मात्रा ज़्यादा भी लग सकती है।

इस प्रकार वैदिक मास्टर बनाकर आप अपने घर को वातानुकूलित बना सकते हैं।

Facebook Comments

You may also like

Bharat Goel-Nikhita Gandhi excited about their indie release, Kamli*

  Composer Bharat Goel and singer Nikhita Gandhi